Save Water Essay in Hindi | जल संरक्षण पर निबन्ध-Jal Sanrakshan ke Upay

Save Water Essay in Hindi | जल संरक्षण पर निबन्ध और उपाय:- हम सभी जानते है कि इस पूरे ब्रह्मांड में अभी तक ज्ञात पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जहां पानी और ऑक्सीजन की उपलब्धता के कारण ही जीवन संभव है. पृथ्वी पर सभी जीवों के लिए पानी जीवन का सबसे महत्वपूर्ण और मूल्यवान तत्व है. पानी के बिना कोई एक दिन भी नहीं रह सकता.Save Water Essay in Hindi

हम यह भी जानते हैं कि स्वच्छ जल का बहुत ही कम प्रतिशत पृथ्वी पर उपलब्ध है(यहाँ हमारा मतलब पीने के पानी से है). इसलिए, हमें साफ पानी को बर्बाद नहीं करना चाहिए और इसे भविष्य के लिए बचाकर रखना चाहिए. “Save Water Essay in Hindi”

हमें अपनी बुरी आदतों को अच्छी आदतों में बदलना चाहिए और स्वच्छ पानी के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता फैलानी चाहिए. हमें पृथ्वी पर जीवन की निरंतरता बनाए रखने के लिए स्वच्छ पानी के कम उपयोग और बचत को बढ़ावा देना चाहिए. हमें भरपूर प्रयास करना चाहिए की हमारे आने वाली पीढ़ी को जल के लिए तरसना न पढ़े.

Table of Contents

Save Water Essay in Hindi | जल संरक्षण पर निबन्ध

जल का परिचय | Jal Sanrakshan in Hindi

जल पृथ्वी पर भगवान का अनमोल उपहार है. केवल जल ही है जिसकी उपलब्धता के कारण पृथ्वी पर जीवन मौजूद है. जल स्वयं तो बेस्वाद, गंधहीन और रंगहीन होता है, परन्तु यह पृथ्वी पर रहने वाले सभी प्राणियों के जीवन में स्वाद, रंग भर देता है.

यह हर जगह पाया जाता है और जीवन के रूप में जाना जाता है. यह हमसे कुछ नहीं लेता है लेकिन पृथ्वी पर रहने वाले सभी प्राणियों को जीवन देता है. इसका कोई आकार नहीं है, लेकिन हम इसे पात्र में डालते हैं यह उसी का आकार ले लेते है. हमें यह हर जगह नदियों,  कुओं, समुद्रों, तालाबों आदि में मिलता है, परन्तु यह सारा पानी पीने योग्य नहीं है.

हमारे पास पीने के साफ पानी की कमी है. पृथ्वी का तीन-चौथाई हिस्सा पानी से भरा हुआ है लेकिन स्वच्छ पानी जिसे हम पी सके वह बहुत ही कम मात्र में उपलब्ध है. हमें पानी के संरक्षण की आवश्यकता है क्योंकि स्वच्छ पानी का प्रतिशत बहुत कम है. “Save Water Essay in Hindi”

Jal Sanrakshan Par Nibandh | Essay on Save Water in Hindi

पेयजल की कमी का कारण | Top Ways People Waste Water

  • पहला कारण पेयजल का बहुत अधिक अपव्यय और दैनिक उपयोग पर पानी का लापरवाह उपयोग हो सकता है।
  • दूसरा उद्योगों से प्रदूषण हो सकता है जो नदियों और झीलों में दैनिक पानी जोड़ता है
  • तीसरा कारण कीटनाशक हो सकते हैं और रासायनिक उर्वरक भी मीठे पानी को प्रदूषित कर रहे हैं।
  • इसके अलावा, पानी को प्रदूषित करने वाली नदियों में सीवेज का कचरा भी डाला जाता है।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में | Jal Sanrakshan Essay in Hindi

 जैसाकि हम सभी जानते है कि जल के बिना पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं है. मानव, पशु, पौधे आदि सभी जीवित प्राणियों को विकसित होने और जीने के लिए जल की आवश्यकता होती है. जल पृथ्वी पर सभी के जीवन का एकमात्र स्रोत है.

स्वच्छ जल का महत्व | Importance of Clean Water

हमें जीवन के सभी क्षेत्रों में सुबह से लेकर शाम तक पीने, खाना पकाने, स्नान करने, कपड़े धोने, पौधों को पानी देने अन्य रोजमर्रा के कार्यों में पानी की आवश्यकता होती है.

अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाले व्यक्तिओं को अलग-अलग उद्देश्यों के लिए पानी की आवश्यकता होती है जैसे कि किसानों को फसल उगाने के लिए पानी की जरूरत होती है, बागवानों को पानी पौधे उगने के लिए, उद्योग के काम के लिए उद्योगपति को भी पानी की आवश्यकता है, बिजली पैदा करने के लिए बिजली संयंत्र को.

इसलिए हमें अपनी आने वाली पीढ़ियों की स्वस्थता और जल और वन्यजीव जानवरों के स्वस्थ जीवन के लिए स्वच्छ पानी की बचत करनी चाहिए। दुनिया के कई स्थानों पर लोग पानी की कमी से जूझ रहे हैं या अपने क्षेत्रों में पूरी तरह से पानी की कमी से भयंकर रूप से पीड़ित हैं।

Jal Sanrakshan Essay in Hindi | Essay on Save Water in Hindi

पानी क्यों बचाएं | Jal Sanrakshan in Hindi

आज हमारे समस्त वह समय आ गया है जब हमें स्वच्छ पानी को बचाने और केवल हमारे उपयोग के अनुसार उपयोग करने की आवश्यकता है.

भारत ही नहीं बल्कि अन्य देशों के कई स्थानों पर लोगों को पानी की भारी कमी का सामना आज के समय में करना पड़ रहा है। उन्हें बहुत लंबी दूरी से टैंकों या कुछ प्राकृतिक जलाशयों द्वारा सरकारी जलापूर्ति पर निर्भर रहना पड़ता है।

लोगों को पीने के पानी की व्यवस्था के लिए रोजाना बहुत लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। वे अपने क्षेत्रों में पानी की पर्याप्त आपूर्ति करने वाले लोगों की तुलना में पानी के मूल्य को बेहतर ढंग से समझते हैं क्योंकि उन्हें रोजाना पानी की इस गंभीर समस्या का सामना करना पड़ता है।

पानी की कमी की स्थिति उन लोगों के लिए बहुत भयानक हो जाती है, जिनके पास पीने, स्नान करने, कपड़े धोने आदि की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पर्याप्त जल उपलब्ध नहीं है।

Save Water in Hindi | Jal Sanrakshan in Hindi

भारत में जल की बचत करना क्यों आवश्यक है? | Why Water Conservation is Important in India

सच तो यह है कि भारत आज दुनिया भर के उन देशों में से एक है जो आज जल स्तर में भारी कमी का सामना कर रहे हैं। भारत में राजस्थान जैसे स्थानों और गुजरात के कुछ हिस्सों में तो पानी की कमी का सामना करना पड़ रहा है. जहाँ घरों की महिलाएँ और लड़कियाँ सिर्फ पीने के पानी का बर्तन भरने के लिए नंगे पैर लंबी दूरी तय करती हैं।

बैंगलोर जैसे कुछ शहरों में लोगों को पानी की बोतलें खरीदने के लिए 25 से 30 रुपये साफ पानी पीने के लिए चुकाना पड़ता है। पानी की दैनिक आवश्यकता बढ़ने पर लोग गर्मियों के महीनों में अधिक समस्याओं का सामना करते हैं।

हाल ही की एक रिसर्च में यह पता चला है कि लगभग 25 प्रतिशत शहरी आबादी के पास स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता की कमी है। कुछ क्षेत्रों में, जल निकायों का निजीकरण पानी की कमी का मुख्य कारण है।

How to Save Water in Hindi | जल की बचत करने के तरीके

1. दाँत ब्रश करते समय नल बंद कर दें-

इससे प्रति मिनट 6 लीटर पानी बचाया जा सकता है.

2. शेविंग करते समय पानी बंद कर दें-

सिंक के निचले हिस्से को कुछ इंच गर्म पानी से भरें जिसमें आपके रेजर को कुल्ला करना है.

3. सूखा प्रतिरोधी पेड़ और पौधे लगाएं-

कई खूबसूरत पेड़ और पौधे बिना सिंचाई के पनपते हैं.

4. पेड़ों और पौधों के आसपास गीली घास की एक परत लगाएं-

मूली नमी के वाष्पीकरण को धीमा कर देती है.

5. ड्राइववे, फुटपाथ और सीढ़ियों को साफ करने के लिए झाड़ू का उपयोग करें-

एक पाइप के इस्तेमाल से सैकड़ों और सैकड़ों गैलन पानी बर्बाद होता है।

6. फ्लश में ज्यादा पानी बर्बाद न करें-

प्रत्येक फ्लश में उपयोग किए जाने वाले पानी की मात्रा को कम करने के लिए अपने टॉयलेट सिसर्न में एक सिस्टर्न विस्थापन डिवाइस रखें. आप अपने पानी देने वाले से इनमें से एक प्राप्त कर सकते हैं।

7. थोड़ा शावर लें-

कुछ लोग स्नान करने में अत्यधिक पानी का प्रयोग करते हैं. खासकर गर्मियों में तो लोग कुछ ज्यादा ही पानी का दुरूपयोग करते है. तो यदि लोग शावर की जगह बाल्टी भर कर स्नान करें तो बहुत पानी की बचत हो जाती है.

8. अपने बच्चों को नली और स्प्रिंकलर से न खेलने के लिए कहें-

बच्चों को गर्म दिन में पाइप या स्प्रिंकलर के नीचे खेलना पसंद है। दुर्भाग्यवश, यह बहुत ही महंगा साबित होता है. इससे पानी का बहुत दुरपयोग होता है और इसे हतोत्साहित किया जाना चाहिए।

9. अपनी वॉशिंग मशीन और डिशवॉशर को हमेशा पूरा भरा हुआ उपयोग करें-

मशीन को पूरा भरकर एक ही बार में सभी कपड़ों और बर्तनों धोने से पानी की बहुत ही बचत होगी.

10. टपकता नल ठीक करें-

एक टपकता नल एक दिन में 15 लीटर पानी बर्बाद कर सकता है और एक साल में करीब 5,500 लीटर पानी की बर्बादी होती है.

11. ड्रेनपाइप में ड्रेन होते पानी को संयोजित करें-

इसका उपयोग अपने पौधों को पानी देने, अपनी कार को साफ करने और अपनी खिड़कियां धोने के लिए करें. एक पानी का बट एक साल में लगभग 5,000 लीटर इकट्ठा कर सकता है.

12. अपने बगीचे में water कैन से पानी दें-

एक नलीपाइप एक घंटे में 1,000 लीटर पानी का उपयोग कर सकता है। अपने पौधों को मल्चिंग करें और सुबह और देर दोपहर को पानी देने से वाष्पीकरण कम होगा और पानी की बचत भी होगी।

13. नल के पानी से एक जग भरें और इसे अपने फ्रिज में रखें-

इसका मतलब यह है कि आपको अपना गिलास भरने से पहले पानी को ठंडा करने के लिए ठंडा नल चलाने के लिए नहीं छोड़ना है.

14. पानी का मीटर स्थापित करें-

जब आप अपने यूटिलिटी प्रोवाइडर को भुगतान करते हैं कि आप कितने पानी का उपयोग करते हैं, इससे कम पानी बर्बाद करने के लिए एक प्रोत्साहना मिलती है.

15. घरेलू उत्पादों को खरीदते समय उसके पानी के खर्च पर ध्यान दें-

अब आप शावर, नल, शौचालय, वाशिंग मशीन, डिशवॉशर और कई अन्य पानी को प्रयोग करने वाले उत्पाद खरीदतें हैं तो यह भी जान लें कि वह डिवाइस कितना पानी खर्च करेगी. “How to Save Water in Hindi”

Essay on Save Water in Hindi | Jal Sanrakshan Par Nibandh

निष्कर्ष | Conclusion

पृथ्वी पर जीवन फलने-फूलने के श्रोतों में से जल एक महत्वपूर्ण श्रोत है. हम अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने की लिए इतना पानी का अपव्यय करते हैं कि आज हम पानी की कमी की इतनी बड़ी समस्या से जूझ रहे हैं. यदि अभी भी हम नहीं सुधरे तो वो दिन दूर नहीं जब इस धरती पर पीने के पानी बचेगा ही नहीं.

आपको हमारा यह लेख Save Water Essay in Hindi ( Jal Sanrakshan in Hindi ) कैसा लगा हमें कमेंट करके अवश्य बताइयेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *